शुक्रवार, ६ ऑक्टोबर, २०१७

शायरी(हिन्दी )-१

जहन मे हमारे कुछ भी नही था,
फिर भी हम किस्मत से खेले है
मंजुरे खुदा ने क्या चाहा,
आज मिलके भी उनसे अकेले है

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत:

टिप्पणी पोस्ट करा